शिक्षक-अभिभावक चौपाल के माध्यम से बिहार सरकार के गलत शिक्षा नीति का विरोध

पटना:-प्रारंभिक माध्यमिक शिक्षक संघ, बिहार प्रदेश द्वारा आज पटना के विश्व संवाद केंद्र में एक प्रेसवार्ता का आयोजन किया गया। प्रेस वार्ता के माध्यम से शिक्षक नेताओं ने बताया कि शिक्षक अपने पोषक क्षेत्र में शिक्षक-अभिभावक चौपाल लगाकर बिहार सरकार की गलत शिक्षा नीति के खिलाफ अभियान चलाएगी। साथ ही बताएगी कि गरीब, शोषित, पीड़ितों के बच्चे शिक्षा के स्तर में आ रही गिरावट से प्रभावित हो रहे हैं। समान काम समान वेतन के मामले को शिक्षक जनता की अदालत में ले जाएंगे और उनके सहयोग से जनांदोलन का रूप देकर सरकार से लड़ने का काम किया जाएगा। समान काम समान वेतन मामले में सुप्रीम कोर्ट द्वारा दिए गए निर्णय से नियोजित शिक्षक आहत हैं परंतु हार नहीं माने हैं। हमारे तरफ से क्या कमी रह गई तथा सुप्रीम कोर्ट द्वारा एक ही तरह के मुकदमे में दो तरह का फैसला दिया गया, यह सोचनीय है। बिहार के चार लाख नियोजित शिक्षकों को राज्यकर्मी का दर्जा देने, सातवें वेतन में राज्य कर्मियों की तरह ग्रेड पे में बढ़ोतरी करने तथा सभी प्रकार के नियोजन इकाइयों को समाप्त कर नियोजित शिक्षकों का एक कैडर बनाने पर सरकार विचार करें। प्रारंभिक माध्यमिक शिक्षक संघ का स्पष्ट कहना है कि सभी संघ यदि एक मंच पर आकर आंदोलन की रूपरेखा बनाते हैं तो हम भी उस आंदोलन में शामिल होकर नियोजित शिक्षकों की लड़ाई को मिलकर लड़ेगें। प्रेस वार्ता में प्रदेश अध्यक्ष राकेश भारती, प्रदेश उपाध्यक्ष रणजीत कुमार, प्रदेश संगठन महामंत्री पवन पावक, प्रदेश मंत्री रंजन आर्य मुंगेर विभाग प्रमुख ज्ञान प्रकाश कटिहार जिला अध्यक्ष प्रदीप राजकिशोर पासवान सहित संघ के दर्जनों शिक्षक नेता उपस्थित रहे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here