लोकसभा आम निर्वाचन, 2019 का मतगणना से संबंधित पदाधिकारियों को दिया गया प्रशिक्षण

जिला निर्वाचन पदाधिकारी-सह-जिलाधिकारी श्री कुमार रवि सामान्य प्रेक्षक 30,पटना साहिब श्री रतन .यू. केलकर सामान्य प्रेक्षक पाटलिपुत्रा श्री सुशील कुमार पटेल की अध्यक्षता में आज मतगणना कर्मियों/पदाधिकारियों को समाहरणालय स्थित सभा कक्ष में लोकसभा आम निर्वाचन, 2019 का मतगणना से संबंधित प्रशिक्षण दिया गया।

प्रशिक्षण के दौरान जिला निर्वाचन पदाधिकारी-सह-जिलाधिकारी ने मतगणना के संबंध में महत्वूर्ण बिन्दुओं को बताया जो निम्न प्रकार हैः-

1. प्रपत्र-17C भाग-2 भरते समय यह ध्यान रखा जाना चाहिए कि मतगणना के पश्चात् कुल मतों की संख्या 17C भाग-1 के कंडिका 6 में अभिलेखित कुल मतों की संख्या से मेल खाता है।

2. सभी मतगणना टेबल पर प्रर्याप्त संख्या में अभ्यर्थियों का नाम (NOTA सहित) पूर्व से मुद्रित 17C भाग-2 होना चाहिए।

3. प्रपत्र-17C भाग-2 की प्रति तैयार करने हेतु कार्बन का इस्तेमाल करना चाहिए तथा सभी प्रति पर उपस्थित मतगणना अभिकर्त्ता का हस्ताक्षर प्राप्त किया जाना चाहिए।

4. प्रपत्र-17C भाग-2 को फोटो स्टेट कर संबंधित टेबल के सभी मतगणना अभिकर्ताओं को वितरित किया जाना है। परन्तु इसके वितरण हेतु अगले राउण्ड का मतगणना रोकी नहीं जायेगी।

5. सभी टेबल के मतगणना पर्यवेक्षक से प्राप्त 17C भाग-2 की द्वितीय प्रति को निर्वाची पदाधिकारी के द्वारा लिफाफा में सील कर अन्य कागजात के साथ रखा जायेगा।

6. अगर किसी सी0यू0 के द्वारा रिजल्ट प्रदर्शित नहीं किया जा रहा हो तो उसे उसके बाॅक्स में डालकर निर्वाची पदाधिकारी के अभिरक्षा मतगणना हाॅल में ही रखा जाना है। दूसरों मशीनों पर मतगणना जारी रहेगी। मतगणना पूर्ण होने के बाद ऐसे खराब मशीन का वी0वी0पैट पर्ची की गणना धारा-56 डी0 के तहत की जायेगी।

7. अंतिम परिणाम पत्र Form-20 भाग-1 तैयार करते समय प्रपत्र-17C भाग-2 के क्रम में ही किया जाना चाहिए।

जिला निर्वाचन पदाधिकारी-सह-जिलाधिकारी ने बताया कि सहायक निर्वाची पदाधिकारी के मतगणना टेबुल पर प्रतिनियुक्त पदाधिकारियों/कर्मियों का कार्य निम्न होगाः-

1. 17-सी0 भाग-2 की प्रथम प्रति से राउण्डवार प्रतिवेदन कम्प्यूटर से तैयार करायेंगे। 17-सी0 भाग-2 की तृतीय प्रति से राउण्डवार प्रतिवेदन मैनुअली तैयार करायेंगे। 17-सी0 भाग-2 से तैयार राउण्डवार प्रतिवेदन और कम्प्यूटर से तैयार राउण्डवार प्रतिवेदन का मिलान करेंगे। यह मिलान निर्वाची पदाधिकरी/सहायक निर्वाची पदाधिकारी के टेबुल पर प्रतिनियुक्त माईक्रो आॅब्जर्वर भी करेंगें

2. सहायक निर्वाची पदाधिकारी दोनों प्रतिवेदन के मिलान से संतुष्ट होकर कम्प्यूटर से निकले प्रतिवेदन पर मतदान केन्द्रवार हस्ताक्षर करेंगे और उस टेबुल पर प्रतिनियुक्त माईक्रो आॅब्जर्वर भी मतदान केन्द्रवार हस्ताक्षर करेंगे।

3. सहायक निर्वाची पदाधिकारी टेबुल पर उपस्थित मतगणना अभिकर्त्ता से हस्ताक्षर प्राप्त करेंगे। इस प्रतिवेदन को निर्वाची पदाधिकारी और प्रेक्षक को प्रतिहस्ताक्षर हेतु भेजेंगे।

4. निर्वाची पदाधिकारी/प्रेक्षक के हस्ताक्षर के बाद इसकी प्रति प्राप्त कर मतगणना हाॅल में बोर्ड पर प्रदर्शित करें।

5. सहायक निर्वाची पदाधिकारी हाॅल में बोर्ड पर मैनुअली, राउण्डवार समेकित प्रतिवेदन भी तैयार की जायेगी, जिसमें प्रत्येक राउण्ड के आँकड़े को अंकित करना एवं उसका योग करते हुए आगे की ओर बढ़ाना है। इस प्रतिवेदन से प्रत्येक राउण्ड में प्राप्त मतों के साथ-साथ समेकित आँकड़े की भी जानकारी मिलेगी।

6. आयोग के नवीनतम निर्देशके आलोक में यदि 17-सी0 के भाग-1 में अंकित कुल मतों की संख्या और सी0यू0 से रेकाॅड किये गये कुल मतों की संख्या में अंतर है तो इसकी सूची संधारित की जायेगी।

जिला निर्वाचन पदाधिकारी-सह-जिलाधिकारी ने बताया कि दिनांक 23.05.2019 को पूर्वाह्न 08.00 बजे से डाक मतपत्रों की गणना से मतगणना प्रारंभ होगी। सभी दो लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र के प्राप्त डाक मतपत्रों को जिला कोषागार, पटना में रखा गया है। प्रभारी पदाधिकारी, पोस्टल बैलेट पेपर कोषांग, पटना, दिनांक 23.05.2019 को 05.00 बजे पूर्वाह्न में जिला में जिला कोषागार, पटना से डाक मतपत्रों को निकाल कर पुलिस बल की अभिरक्षा में ए0एन0 काॅलेज परिसर स्थित मतगणना कक्ष में संबंधित निर्वाची पदाधिकारी को हस्तगत करायेंगे। निर्वाची पदाधिकारी द्वारा डाक मतपत्रों के मतगणना में प्रतिनियुक्त कर्मियों को लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम 1951 की धारा 128 के तहत गोपनीयता की शपथ दिलायेंगे।

जिला निर्वाचन पदाधिकारी-सह-जिलाधिकारी ने बताया कि ETPBS(Electronically Transmittd Postal Ballot Paper) ऐसे डाक मत पत्र सेवा मतदाता के लिए रिकाॅर्ड आॅफिस इलेक्ट्राॅनिक माध्यम से भेजे जाते है, जहाँ उसे डाउनलोड कर संबंधित सेवा मतदाता को दिया जाता है एवं सेवा मतदाता ऐसे पोस्टल बैलेट को चिन्ह्ति करते हुए विहित प्रक्रिया से डाक के द्वारा मैनुअली प्रेषित किये जाते हैं। ETPBS से प्राप्त पोस्टल बैलेट पेपर के गणना के पूर्व उसमें अंकित QR कोड का अलग टेबल पर Pre-Verification होगा। स्कैनिंग में सही पाये गये ETPBS के ट्रे को पोस्टल बैलेट पेपर के गणना हेतू चिन्ह्ति टेबल पर भेज देना है तथा इसकी गणना पोस्टल बैलेट पेपर के गणना के प्रावधान के अनुरूप की जायेगी।

जिला निर्वाचन पदाधिकारी-सह-जिलाधिकारी ने बताया कि प्रत्येक मतगणना हाॅल में 14 टेबुल और एक निर्वाची पदाधिकारी का टेबुल लगा रहेगा। प्रत्येक मतगणना टेबुल पर निर्वाची पदाधिकारी की ओर से एक मतगणना पर्यवेक्षक और एक सहायक नियुक्त रहेंगे। प्रत्येक मतगणना टेबुल पर भारत निर्वाचन आयोग के प्रेक्षक के प्रतिनिधि के रूप में एक माईक्रो आॅब्जर्वर नियुक्त रहेंगे। प्रत्येक मतगणना टेबुल पर भारत निर्वाचन आयोग के प्रेक्षक के प्रतिनिधि के रूप में एक माईक्रो आब्जर्वर नियुक्त किये जायेंगे। इसके दो अतिरिक्त माईक्रो आब्जर्वर की भी प्रतिनियुक्ति की जायेगी। जिसमें से एक अतिरिक्त माईक्रो आब्जर्वर सहायक निर्वाची पदाधिकारी के टेबुल पर होने वाले डाटा इन्ट्री पर नजर रखेंगे एवं दूसारा माईक्रो आॅब्जर्वर प्रेक्षक के कार्य में सहायकता करेंगे। द्वितीय अतिरिक्त माईक्रो आॅब्जर्वर/सहायक अतिरिक्त कर्मी प्रत्येक राउण्ड में किसी दो टेबुल के ई0वी0एम0 में रेकार्ड मतों की मिलान मतगणना टेबल से प्राप्त 17-C भाग-2 प्रपत्र में करेंगे।

जिला निर्वाचन पदाधिकारी-सह-जिलाधिकारी ने बताया कि प्रत्येक लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र के लिए मतदान केन्द्रवार/टेबुलवार राउण्ड का निर्धारण करते हुए (Round) विवरणी तैयारी की गयी है। यह चक्र विवरणी बज्रगृह प्रभारी/ई0वी0एम0 बज्रगृह से मतगणना हाॅल में ले जाने वाले प्रभारी पदाधिकारी/मतगणना प्रेक्षक/मतगणना पर्यवेक्षक को पूर्व से उपलब्ध करा दिया जायेगा। इसी चक्र विवरणी के अनुसार टेबुल पर मतदान केन्द्रवार पोल्ड ई0वी0एम0 उपलब्ध कराये जायेंगे।

जिला निर्वाचन पदाधिकारी-सह-जिलाधिकारी ने बताया कि मतगणना पर्यवेक्षक सी0यू0 के Carrying Case पर लगे एड्रेस और प्रपत्र-17सी भाग-1 पर अंकित मतदान केन्द्र संख्या का मिलान चक्रवार विवरणी से करेंगे और यह सुनिश्चित हो लेंगे कि उनके टेबुल पर प्राप्त होने वाले सी0यू0 की ही गणना की जानी है। यह सुनिश्चित कर लिये जाने के बाद के टेबुल पर प्राप्त सी0यू0 सही है, उसपर लगे सील का निरीक्षण किया जायेगा।

जिला निर्वाचन पदाधिकारी-सह-जिलाधिकारी ने बताया कि मतगणना पर्यवेक्षक द्वारा मतगणना टेबुलवार परिणाम 17सी भाग-2 की प्रथम प्रति निर्वाची पदाधिकारी के टेबल पर उपलब्ध करायेंगे ताकि इसके उपयोग से कम्प्यूटर से परिणाम के आँकड़े की प्रविष्टि करते हुए परिणाम संकलित किया जा सके।

दूसरी प्रति मतगणना पर्यवेक्षकके पास एक संचिका में संकलित कर अंत में जमा करने के लिए है। इसी प्रति का उपयोग कर मतगणना हाॅल में प्रतिनियुक्त पदाधिकारी फोटो काॅपी करायेंगे और संबंधित टेबल में मतगणना अभिकर्त्ता को उपलबध करायेंगे। मतगणना पर्यवेक्षक इसे एक संचिका में संधारित करेंगे और अंत में सभी को लिफाफा में सील करके इसे निर्वाची पदाधिकारी को उपलब्ध करा देंगे।

तीसरी प्रति को भी निर्वाची पदाधिकारी के टेबल पर उपलब्ध कराना है ताकि इसका उपयोग कर मैनुअल डेटा का संकलन किया जा सके। प्रत्येक मतगणना टेबुल पर प्रतिनियुक्त माईक्रो आॅब्जर्वर अपना प्रतिवेदन प्रेक्षक माईक्रो आॅब्जर्वर को उपलब्ध करायेंगे।

जिला निर्वाचन पदाधिकारी-सह-जिलाधिकारी ने बताया कि माईक्रो प्रेक्षक द्वारा किये गये रेण्डम जाँच में जिस मतगणना टेबुल के पर्यवेक्षक द्वारा भूल की गयी है उस पर्यवेक्षक को तत्काल मतगणना से हटा दिया जायेगा। उनके स्थान पर रिजर्व से मतगणना पर्यवेक्षक की नियुक्ति की जायेगी एवं हटाये गए मतगणना पर्यवेक्षकके विरूद्ध विभागीय कार्रवाई प्रारंभ की जायेगी।

निर्वाची पदाधिकारी के टेबुल पर गणना के समय सर्वप्रथम मतगणना पर्यवेक्षक द्वारा मतगणना टेबुल पर तैयार किये गये 17 सी भाग-2 की सभी तीन प्रतियों पर उपस्थित मतगणना अभिकत्र्ताओं से हस्ताक्षर प्राप्त किया जायेगा तथा 17 सी भाग-2 की प्रथम एवं तृतीय प्रति निर्वाची पदाधिकारी/सहायक निर्वाची पदाधिकारी को उपलब्ध कराया जायेगा। निर्वाची पदाधिकारी/सहायक निर्वाची पदाधिकारी के टेबुल पर लगे कम्प्यूटर में 17 सी भाग-2 के प्रथम प्रति के आधार पर विहित प्रपत्र में अभ्यर्थी वार मतों को अंकित किया जायेगा। कम्प्यूटर में अंकित डाटा और मैनुअली अंकित डाटा का मिलान किया जायेगा। निर्वाची पदाधिकारी/सहायक निर्वाची पदाधिकारी राउण्वार डाटा प्रविष्टि से संतुष्ट होकर प्रतिवेदन पर यह अंकित करेंगे कि डेटा Verify कर लिया गया है।

जिला निर्वाचन पदाधिकारी-सह-जिलाधिकारी ने बताया कि निर्वाचन पदाधिकारी द्वारा प्रत्येक राउण्ड में परिणाम की घोषणा की जायेगी।

चक्रवार परिणाम विवरणी से ही डाटा को जेनेसिस पर अपलोड किया जाना है तथा राण्डवार डाटा विवरणी को मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी, बिहार को फैक्स के माध्यम से उपलब्ध कराना है।

जिला निर्वाचन पदाधिकारी-सह-जिलाधिकारी ने बताया कि निर्वाचन आयोग के द्वारा वी0वी0पैट के पर्चियों का सी0यू0 से प्राप्त परिणाम के मिलान का प्रावधान भी किया गया ह। इस हेतु लोकसभा निर्वाचन-2019 में पांच वी0वी0पैट के पर्चियों का मिलान सी0यू0 के परिणाम से किया जाना है। प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र के पांच बूथ का रेण्डम सलेक्शन कर उस बूथ के सी0यू0 में रेकाॅर्ड मतों तथा वी0वी0पैट के ड्राॅप बाॅक्स में संग्रह पर्ची का मिलान किया जायेगा। यदि किसी मतगणना अभिकर्त्ता द्वारा किसी बूथ के लिए अलग से आपत्ति दर्ज की गई हो तो आर0ओ0/ए0आर0ओ0 की सहमति एवं निदेशानुसार उस मतदान केन्द्र के सी0यू0 तथा वी0वी0पैट की भी गिनती कर मिलान की जायेगी।

वी0वी0पैट के पर्चियों की गणना ई0वी0एम0 से मतों के आखिरी राउण्ड के गणना के पश्चात होगी तथा यह ध्यान रखना चाहिए कि जिस ई0वी0एम0 के द्वारा परिणाम प्रदर्शित नहीं किये जाने के कारण नियम 56-डी के तहत किया गया है, के पश्चात Randomly Slected मतदान केन्द्रों के वी0वी0पैट के पर्चियों का मिलान किया जाना है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here